अगर आपको भी होती है सांस लेने में तकलीफ तो हो सकता है यह बड़ा कारण..

आजकल लोगों में सांस लेने की समस्याएं बढ़ती जा रही है इसका कारण यह भी है कि लोगों को शुरुआती दौर में उसके लक्षणों का ज्ञान नहीं होता और वे इसे नजरअंदाज कर देते हैं लेकिन इस बीमारी का नजरअंदाज किया जाना है हमारी सबसे बड़ी भूल। क्योंकि एक बार नजरअंदाज किए जाने पर यह एक बहुत भयंकर रूप ले लेती है और बाद में और ज्यादा खतरनाक हो जाती है। इस बीमारी के कई कारण हो सकते हैं जिनमें से कुछ मुख्य के बारे में आज हम बात करेंगे और आपको बताएंगे कि आप किस तरीके से अपने शरीर में इन लक्षणों का पता कर सकते हैं और अपने समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

गले में सूजन : दोस्तों जब कभी गले के अंदरूनी हिस्से में सूजन इत्यादि हो जाती है तो हमें सांस लेने में हल्की फुल्की तकलीफ होने लगती है। ऐसे में व्यक्ति धीरे-धीरे सांस लेता है और उसे पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिलती जिसकी वजह से उसे दमा जैसी गंभीर बीमारी से सामना करना पड़ सकता है और उसकी सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ता है इसलिए हमें कोशिश करनी चाहिए। जब भी हमारे गले में इंफेक्शन या सूजन हो तो हम जल्दी आ जल्दी दवाओं के जरिए उसे ठीक कर ले क्योंकि लंबे समय तक यह बीमारी गंभीर रूप ले सकती है और हमें हानि पहुंचा सकती है।

प्रदूषण : दोस्तों आजकल सामान्य लोगों में होने वाली है सांस की बीमारी का सबसे बड़ा कारण बनता जा रहा है प्रदूषण जब हम दूषित हवा में सांस लेते हैं तो वह हमारे शरीर को बहुत अधिक हानि पहुंचाती है और हमारे स्वास में पूर्ण रूप से ऑक्सीजन न मिलने के कारण हमें अनेक बीमारियों का सामना करना पड़ जाता है। ऐसे में हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए की हम अधिक प्रदूषित स्थान पर ना रहे और यदि हमें सड़क इत्यादि पर जाना पड़ रहा है तो हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमने अपने चेहरे पर फेस मास्क लगाया हुआ है। जो हमारी सास को दूषित हवा से बचाएगा और हमें वायु प्रदूषण की वजह से श्वास संबंधी बीमारियों से ग्रस्त होने से बचा लेगा।

तनाव : जब कोई व्यक्ति किसी बात को लेकर तनाव में होता है तो उसकी सांस लेने की गति अपने आप बहुत तेज हो जाती है या बहुत धीरे हो जाती है बहुत तेज सांस लेना भी हमारे लिए अच्छा नहीं होता क्योंकि जब हम तेज सांस लेते हैं तो हमें उपयुक्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिलती और हम अपने श्वसन तंत्र पर दबाव डालते हैं इसके कारण हमारा सीना भारी भारी महसूस होता है। दोस्तों जब भी आप किसी बात को लेकर चिंतित हो तो आप किस बात का जरूर ध्यान रखिए कि आप अपनी सास को सही तरीके से लेने की कोशिश करें। आपको यह कोशिश करनी है कि आप धीरे-धीरे लंबी सांस लें इससे हमारे शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिलेगी और हमारे दिमाग तक पर्याप्त मात्रा में रक्त का संचार होगा।

बढ़ता हुआ वजन जब किसी व्यक्ति का वजन बहुत ज्यादा तेजी से बढ़ता है तो उसे सांस लेने में तकलीफ होना बहुत सामान्य बात है क्योंकि वजन बढ़ने से व्यक्ति का सांस फूलने लगता है और उसका स्टैमिना कम हो जाता है जिसके कारण उसे सांस लेने में दिक्कत होती है और वह जल्दी ही हाफ ने लगता है शरीर जब मोटा होता है तो उसे अधिक ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है परंतु सामान्य सांस लेने वाला व्यक्ति इस आपूर्ति को पूरा नहीं कर पाता और उसे सांस लेने में तकलीफ होने लग जाती है। इस समस्या से बचने का यही तरीका है कि हमें अपने वजन पर कंट्रोल रखना चाहिए और हमें नियमित व्यायाम करना चाहिए जिससे हमारा वजन कंट्रोल में रहे और हमें अपनी दिनचर्या में पोस्टिक आहार लेना चाहिए जिससे हमारे शरीर में शक्ति और स्टेमिना भरपूर रहे।

दोस्तों ऊपर बताए हुए सभी लक्षण आपको किसी बड़ी बीमारी की तरफ ले जाने का कार्य करते हैं। ऐसे में यह ध्यान रखना चाहिए कि आप अपने शरीर की केयर अच्छे से करें और यदि आपको लंबे समय से कोई भी ऐसी परेशानी हो रही है तो आपको जरूर डॉक्टर से जांच करानी चाहिए और अपनी समस्या के बारे में जानकारी लेनी चाहिए।

आइए जानते हैं आप इन समस्याओं से बचने के लिए क्या कर सकते हैं।

यदि आपका वजन बढ़ रहा है तो आपको जरूरत है कि आप रोजाना नियमित व्यायाम करें और अपने वजन को कंट्रोल करने की कोशिश करें।

नेचुरल पोषक तत्व को अपनी डाइट में ऐड करें जो हमारे शरीर को सेहतमंद और बीमारियों को हमारे शरीर से दूर रखने में सहायता करती है। जैसे कि आपको चाय इत्यादि में कुछ आयुर्वेदिक हर्बल पदार्थ मिलाने चाहिए जो हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं और रोगों को हमारे शरीर से दूर रखते हैं।

जब भी घर बनवाए तो यह सुनिश्चित करें कि उसमें हवा के आदान-प्रदान के लिए उपयुक्त मात्रा में रोशनदान खिड़की दरवाजे इत्यादि लगे हुए हैं। समय-समय पर घर की सभी खिड़की दरवाजे खोल दें और ताजी हवा को घर में प्रवेश करने की अनुमति दें क्योंकि यदि घर में हवा का आदान-प्रदान नहीं होगा तो घर में जो वायु है वह दूषित हो जाएगी और आप उसी में सांस लेते रहेंगे तो आपको घुटन महसूस होने लगेगी। यदि आप दरवाजे खोल कर ताजी हवा को अंदर आने देंगे तो आपको घुटन कभी महसूस नहीं होगी।

इन सभी टिप्स का पालन करके आप अपने और अपने परिवार को सांस संबंधी बीमारियों से दूर रख सकते हैं और उनके शरीर को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रख सकते हैं। यदि आपका इस पोस्ट के संबंध में कोई टिप्पणी या सुझाव है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं हमें बहुत अच्छा लगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *